ये ब्लोग कोलाज है शब्दो का क्योकि मै वह नहीं देख पाती जो सब देख पाते है.मेरी कविताओं मे अगर आप अपने को पाते है तो ये महज इतिफाक है । जिन्दगी की सचाईयाँ सबके लिये एक सी होती है सिर्फ नजरिया देखने का अलग अलग होता है ।
COPYRIGHT 2007.© 2007. The blog author holds the copyright over all the blog posts, in this blog. Republishing in ROMAN or translating my works without permission is not permitted. Adding this blog to Hindi Aggregators without permission is voilation of Copy Right .
ये ब्लोग कोलाज है शब्दो का क्योकि मै वह नहीं देख पाती जो सब देख पाते है.मेरी कविताओं मे अगर आप अपने को पाते है तो ये महज इतिफाक है । जिन्दगी की सचाईयाँ सबके लिये एक सी होती है सिर्फ नजरिया देखने का अलग अलग होता है । इस ब्लॉग पर जो भी लिखा मेरा निजी हैं उस दृष्टि कोण से आप असहमत हो तो कविता पढ़ कर भूल जाये और आगे जा कर अपनी पसंद के विचार खोजे

Sunday, July 15, 2012

मनाई , बंदिश और नियम -- एक कविता जो पुरानी हैं पर आज भी नयी हैं

मनाई , बंदिश और नियम
जहाँ भी मनाई हों
लड़कियों के जाने की
लड़को के जाने पर
बंदिश लगा दो वहाँ
फिर ना होगा कोई
रेड लाइट एरिया
ना होगी कोई
कॉल गर्ल
ना होगा रेप
ना होगी कोई
नाजायज़ औलाद
होगा एक
साफ सुथरा समाज
जहाँ बराबर होगे
हमारे नियम
हमारे पुत्र , पुत्री
के लिये
  एक कविता जो पुरानी हैं पर आज भी नयी हैं   My Vision Of Gender Equality

Where Ever You Dont Want
The Girls Should Go
Put An Embargo For The Boys
Then There Will Be  No Red Light Area
There Will Be No Call GIrl
There Will Be No Rape
And
No So Called Illicit Child
Will Be Born

There Will Be
A Neat And Clean Society
Where
The Rules Will Be Same
For Our Sons And Daughers

Copy Right Rachna

Friday, July 06, 2012

मिडल क्लास का एक आदमी

आज फिर दिखा
मिडल क्लास का एक आदमी
एक फ्लाई ओवर के ऊपर
एक रिक्शे पर सवार
एक पत्नी
तीन छोटे बच्चे
और दो भारी भरकम अटैची
को पीछे से धक्का देते हुए
दो रिक्शे ना अफोर्ड कर पाना
चढाई पर अकेला रिक्शे वाला कैसे खीचेगा
यही हैं मिडल क्लास मानसिकता

पत्नी भी उत्तर सकती थी
आफ्टर ऑल अर्धांगिनी थी
सुख दुःख की साथी थी 
नहीं उतरी  क्युकी वहाँ
वो पहले नारी थी
सुकुमारी थी

ख़ैर
ईश्वर से प्रार्थना हैं
मिडल क्लास के इस आदमी को
बनाए रखना
अपने परिवार के प्रति
मानवता के प्रति उसका प्रेम जगाये रखना